ads

कैप्टन विक्रम बत्रा और डिम्पल की प्रेम कहानी भी सुनाएगी कारगिल युद्ध पर बनी 'Shershaah'

करीब 26 साल पहले का भारत। फिजाओं में 'कहना ही क्या ये नैन इक अनजान से जो मिले' और 'राजा को रानी से प्यार हो गया' के सुर गूंज रहे थे। पंजाब यूनिवर्सिटी (चंडीगढ़) में नौजवान विक्रम बत्रा ( Vikram Batra ) और डिम्पल चीमा की प्रेम कहानी की इब्तिदा हुई। दोनों ने एमए के लिए दाखिला लिया था। दोनों एमए नहीं कर पाए। विक्रम फौज में भर्ती होकर कैप्टन विक्रम बत्रा हो गए। डिम्पल उनकी हमसफर बन गईं। दोनों की प्रेम कहानी मुख्तसर रही, लेकिन इस तरह की दूसरी कहानियों के मुकाबले इसमें ज्यादा गहराई है, कई आयाम हैं, रिश्तों के अलहदा रंग हैं। निर्देशक विष्णु वर्धन की नई फिल्म 'शेरशाह' ( Shershaah Movie ) में यह कहानी सुनाई जाएगी। इसे दो जुलाई को सिनेमाघरों में उतारने की तैयारी है। सिद्धार्थ मल्होत्रा ( Sidharth Malohtra ) इसमें कैप्टन विक्रम बत्रा बने हैं, जबकि डिम्पल का किरदार कियारा आडवाणी ने अदा किया है।

यह भी पढ़ें : 15 से ज्यादा बॉलीवुड मूवीज की रिलीज डेट आई सामने, देखें मार्च से दिसंबर तक की सूची

डिम्पल के लिए यादें ही सरमाया
कारगिल युद्ध में शहीद हुए कैप्टन विक्रम बत्रा को शौर्य और बहादुरी के सर्वोच्च सम्मान परमवीर चक्र से नवाजा गया। जाहिर है, 'शेरशाह' में उनकी और डिम्पल की प्रेम कहानी के साथ कारगिल युद्ध पर भी फोकस रहेगा। इस युद्ध के दौरान कैप्टन विक्रम बत्रा की तबीयत नासाज थी। आला अफसर चाहते थे कि वह आराम करें, लेकिन वह पॉइंट 4875 का मिशन पूरा करने चल दिए। इसी इलाके में एक साथी जवान की जान बचाते हुए उनकी जान गई। डिम्पल के लिए उनकी यादें ही सरमाया हैं। पिछले साल एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा था, 'इतने साल बाद भी मैंने किसी दिन खुद को उनसे जुदा नहीं पाया। लगता है वह कहीं पोस्टिंग पर हैं। मुझे यकीन है कि हम फिर मिलेंगे।'

कारगिल पर आधा दर्जन से ज्यादा फिल्में
कारगिल युद्ध पर आधा दर्जन से ज्यादा फिल्में बन चुकी हैं। इनमें जे.पी. दत्ता की 'एल.ओ.सी. कारगिल' (2003) शामिल है। हिन्दी में टीवी फिल्म 'तमस' (4.58 घंटे) के बाद यह सबसे लम्बी फिल्म (4.15 घंटे) है। इन दोनों फिल्मों से पहले यह रेकॉर्ड राज कपूर की 'मेरा नाम जोकर' (4.4 घंटे) के नाम था। शाहिद कपूर और सोनम कपूर की प्रेम कहानी 'मौसम' के पसमंजर में कारगिल युद्ध है। जिन दिनों कारगिल युद्ध चल रहा था, वर्ल्ड कप क्रिकेट का बुखार भी चढ़ा हुआ था। यह विषमता रवीना टंडन की 'स्टम्प्ड' की थीम बनी। फिल्म तल्ख अंदाज में इस सच को पर्दे पर पेश करती है कि जब युद्ध के मैदान में हमारे जवान जान की बाजी लगा रहे थे, एक बड़ी आबादी की दिलचस्पी क्रिकेट के मैदान में उतरने वाले खिलाडिय़ों में ज्यादा थी।

यह भी पढ़ें : दीया मिर्जा की शादी में न कन्यादान न ही विदाई, वजह बताते हुए बोलीं-और जोड़े भी करेंगे ऐसा

लाल फीताशाही, भ्रष्टाचार और विवाद
ओम पुरी और रेवती ने 'धूप' में कारगिल युद्ध के शहीद कैप्टन अनुज नैयर के मां-बाप का किरदार अदा किया। यह फिल्म उस लाल फीताशाही और भ्रष्टाचार की खबर लेती है, जो शहीदों के परिजनों की पीड़ा की आग में घी का काम करते हैं। ऋतिक रोशन की 'लक्ष्य', अजय देवगन और बॉबी देओल की 'टैंगो चार्ली', जाह्नवी कपूर की 'गुंजन सक्सेना : द कारगिल गर्ल' भी कारगिल युद्ध की पृष्ठभूमि पर बनीं। वायुसेना की आपत्तियों के कारण 'गुंजन सक्सेना' विवादों में रही। यह वायुसेना की पायलट गुंजन सक्सेना की बायोपिक है। सेवानिवृत्त विंग कमांडर नमृता चंडी ने यह फिल्म बनाने वालों पर 'रचनात्मक आजादी के नाम पर झूठ बेचने' का आरोप लगाया। उनके शब्दों में, 'मैंने हेलीकॉप्टर पायलट के तौर पर 15 साल के कॅरियर में कभी इस तरह की बदसलूकी का सामना नहीं किया, जैसा फिल्म में दिखाया गया। सिनेमाई लाइसेंस और क्रिएटिविटी की आजादी 'कभी खुशी कभी गम' जैसी फिल्मों पर लागू की जा सकती है। इसे भारतीय वायुसेना के स्थापित नियमों और प्रोटोकॉल के दायरे में नहीं लाया जा सकता। फिल्म ने हम सभी को नीली वर्दी में बहुत खराब तरीके से दिखाया गया।'



Source कैप्टन विक्रम बत्रा और डिम्पल की प्रेम कहानी भी सुनाएगी कारगिल युद्ध पर बनी 'Shershaah'
https://ift.tt/3brPzQH

Post a Comment

0 Comments